You are here
Home > राजनीति चौसर > आईना > दिव्यांगों के प्रति सोच बदलनी होगीः मोदी

दिव्यांगों के प्रति सोच बदलनी होगीः मोदी

सुबह बनारस शाम ए लखनऊ

दिव्यांगों के प्रति सोच बदलनी होगीः मोदी

वाराणसी, 22 जनवरी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज यहां कहा कि हमें दिव्यांगों को अब बेहतर सुविधा की ओर ले चलना है। दिव्यांगों के लिए विशेष सुविधा बनानी होगी। इमारतों की सीढी, रैंप, गाडियों में सुविधा, टायलेट आदि को दिव्यांगों के अनुरूप बनाना होगा। इसके लिए कानूनी पहल भी करनी होगी तो हम करेंगे। डीरेका इंटर कालेज के मैदान पर आयोजित दिव्यांग सम्मान समारोह को सम्बोधित करते हुए मोदी ने कहा कि दिव्यांगों के प्रति हमें अपनी सोच बदलनी होगी। उन्होंने कहा कि सभी दिव्यांगों को यह अहसास कराना होगा कि समाज भी आपके प्रति समर्पित है। उन्होंने कहा कि दरअसल, अभी तक दिव्यांगों के लिए स्वस्थ्य लोगों वाली ही सुविधाएं हैं, जिसे बदलना होगा।
प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकारें पहले भी थीं और 1992 से सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्रालय भी काम कर रहा है लेकिन 1992 से 2014 तक मुश्किल से 100 कैंप लगे थे जबकि उसके बाद वर्तमान केंद्र सरकार महज एक वर्ष में 1800 दिव्यांग कैंप लगा चुकी है। उन्होंने कहा कि यह न समझा जाए कि काशी में दिव्यांग उपकरण वितरण पूरा हो गया। कैंप चल रहे हैं, उनमें भी पंजी—त लोगों को उपकरण मिलेंगे। उन्होेंने कहा कि जो बच्चे देख और सुन नहीं पा रहे थे, आज वो सुन-बोल रहे हैं। उनके अभिभावकों के चेहरे आज चमक रहे हैं, सरकार यही चाहती है।
प्रधानमंत्री ने समारोह में कुल 9296 दिव्यांगों को विशेष उपकरण के साथ ही 500 विधवाओं को सिलाई मशीन की सौगात भी दी। इसके अलावा पीएम ने झंडी दिखाकर महामना एक्सप्रेस को भी रवाना किया। इस दौरान मोदी ने ब्रिटेन में हाउस आफ लार्ड के सदस्य लार्ड लुम्बा की पुस्तक वल्र्ड विडोस रिपोर्ट का विमोचन भी किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने कहा कि मुझे पता चला है कि कुछ दिव्यांग भाई-बहन कार्यक्रम में आते समय बस दुर्घटना में घायल हो गये हैं। मैं उनकी शीघ्र कुशलता की कामना करता हूं। उन्होंने कहा कि उनको उनके घर पर ही उपकरण भेजे जाएंगे।
गौरतलब है कि बनारस जिले के कपसेठी इलाके में पीएम मोदी के कार्यक्रम में आ रहे दिव्यांगों की शुक्रवार को सुबह लगभग 10.30 बजे बस पलट गई है। जिसमें दर्जन भर से ज्यादा घायल हो गये हैं।

अम्बेडकर ने देश को बहुत कुछ दिया: मोदी

लखनऊ। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छात्र-छात्राओं को देश के संविधान निर्माता ड‚.भीमराव अम्बेडकर के जीवन के आदर्श को अपनाने की सलाह देते हुए कहा कि शिक्षा से ही देश तथा विश्व का मार्ग प्रशस्त होगा। शिक्षा का अपने घर, समाज, प्रदेश तथा देश के लिए प्रयोग करें। आपको महान होने से कोई भी ताकत नहीं रोक सकेगी। यह बाते आज प्रधानमंत्री ने आज लखनऊ में बाबा साहेब डा भीमराव अम्बेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह को बतौर मुख्य अतिथि सम्बोधित करते हुए कही। विश्वविद्यालय के छठवें दीक्षांत समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छात्र-छात्राओं को ड‚. अम्बेडकर के जीवन का आदर्श अपनाने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि ड‚. अम्बेडकर ने अपना जीवन राष्ट्र को समर्पित कर दिया था। डा. अम्बेडकर ने कभी भी निंदा या बुराई की परवाह नहीं की। अम्बेडकर ने देश को बहुत कुछ दिया वह अपने काम में लगे रहे। उन्होंने समाज के कमजोर वर्ग को मुख्यधारा में लाने का साहसिक काम किया। इतने संघर्ष के बीच भी उन्होंने अपने काम को साबित करके दिखाया। आज हमारे देश के नौजवान साथियों को उनके जीवन तथा दर्शन को अपनाने की बहुत जरूरत है। उन्होंने कहा कि ड‚. अम्बेडकर ने देश को बहुत कुछ दिया है। हर कोई उनकी तरह ही अपनी सोच का दायरे को बड़ा करे। पीएम ने कहा कि आज हमें जो दिख रहा है हो सकता हो उसके पीछे कोई बड़ा रास्ता हो। हमें उस रास्ते को ड‚. अम्बेडकर की तरह ही पाने के लिए लगे रहना पड़ेगा।

महान होने से कोई भी ताकत नहीं रोक सकेगी

प्रधानमंत्री ने कहा कि शिक्षा से ही देश तथा विश्व का मार्ग प्रशस्त होगा। दीक्षांत समारोह की परंपरा तो गुरुकुल के समय से ही है। हमें इसका संपूर्ण लाभ लेना चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि आप की शिक्षा अधूरी है, अगर आपको ज्ञान नहीं है। इसका पता ही नहीं है कि क्या करना है, क्या नहीं करना है। क्या सही है और क्या गलत है। आपको क्या करना है और क्या नहीं करना है, अगर मुझे समझाना पड़े तो आपका शिक्षित होना व्यर्थ है। शिक्षा का अपने घर, समाज, प्रदेश तथा देश के लिए प्रयोग करें। आपको महान होने से कोई भी ताकत नहीं रोक सकेगी।

भावुक हो गए मोदी

डा‚. बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संबोधन के दौरान हैदराबाद विश्वविद्यालय के छात्र रोहित वेमुला के जिक्र के दौरान भावुक हो गए। मोदी ने कहा कि रोहित को खुदकुशी के लिए मजबूर होना पड़ा। कारण अपनी जगह होंगे, राजनीति अपनी जगह होगी, लेकिन एक मां ने अपना बेटा खोया है। रोहित के परिवार पर क्या बीती होगी, मैं इस पीड़ा को अच्छी तरह महसूस कर सकता हूं। हालांकि मोदी के भाषण के दौरान हंगामा भी हुआ।

‘मोदी गो बैक’ के नारे लगे

मोदी जैसे ही मंच पर छात्रों को संबोधित करने के लिए आए तो कुछ छात्रों ने ‘मोदी गो बैक’ के नारे लगाए। यह नारे हैदराबाद विश्वविद्यालय में दलित छात्र रोहित वेमुला के सुसाइड करने के कारण लगाए गए। हालांकि, सुरक्षाकर्मियों ने नारे लगाने वाले छात्रों को बाहर कर दिया। वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने तुरंत इन्हें काबू करके सभागार से बाहर कर दिया। इसके बाद मोदी ने अपना भाषण जारी रखा।

टूटे मन से कोई खड़ा नहीं हो सकता: राजनाथ

इससे पहले देश के गृह मंत्री तथा लखनऊ के सांसद राजनाथ सिंह ने कहा कि अगर कोई पूरे मन से किसी भी काम को करे तो उसको सफलता मिलनी तय है। टूटे मन से कोई खड़ा नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि छात्रों का जोर चरित्र निर्माण पर होना चाहिए। छोटे मन से कोई बड़ा नहीं हो सकता।राजनाथ ने कहा कि भगवान राम का उदाहरण लेकर देखे। इसी से हमारी संस्.ति चरित्र निर्माण के लिए जानी जाती है। इस मौके पर राजनाथ ने विवेकानंद का उदाहरण दिया कि चरित्र व्यक्ति को महान बनाता है। शिक्षा का उद्देश्य व्यक्तित्व का समग्र विकास है। देश में चरित्र का महत्व है। इससे पहले यूनिवर्सिटी में छात्राओं ने कुल गीत से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत किया। इसके बाद प्रधानमंत्री ने स्टूडेंट एक्टिविटी सेंटर का उद्घाटन भी किया।
इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजधानी लखनऊ के चैधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट (अमौसी) पहुंचने पर राज्यपाल राम नाईक के साथ गृह मंत्री सांसद राजनाथ सिंह, मुख्यमंत्री अखिलेश यादव व खनऊ के मेयर डा‚. दिनेश शर्मा ने प्रधानमंत्री की अगवानी की।

सफाई कर्मी की गयी जान

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लखनऊ भ्रमण ने शुक्रवार को एक सफाई कर्मी को मौत के मुंह में धकेल दिया। मोदी के आगमन पर आशियाना के बंगला बाजार के पास सड़क की सफाई के बाद कूड़ा फेकने जा रहे एक सफाई कर्मी को पीछे से तेज रतार हाफ डाला ने रौंद दिया। राहगीरों की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने उसे गंभीर हालता में लोकबंधु अस्पताल में भर्ती कराया, जहां इलाज के दौरान सफाई कर्मी की मौत हो गई। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। उधर, सफाई कर्मी की मौत से आक्रोशित साथियों ने सड़क जाम कर हंगामा काटा। मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को शांत कराया। पुलिस डाला चालक को हिरासत में ले लिया है। प्रदर्शनकारी मृतक के परिजनों को आर्थिक सहायता मुहैया कराने की मांग कर रहे थे।
मूलरूप से हरौनी उन्नाव का रहने वाला सफाई कर्मचारी मनोज (38) अपनी पत्नी रेनू और तीन बेटों अभिषेक (16), हिमांशू (12), और अंशू (10) के साथ आशियाना के सेक्टर-डी में रहता था। शुक्रवार को पीएम मोदी के लखनऊ आगमन के चलते आशियाना के बंगला बाजार पुल के पास वह सफाई करके कूड़ा फेकने के लिए जा रहा था। तभी पीछे से आये तेज रफतार हाफ डाला ने उसे रौंद दिया। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस उसे गंभीर हालत में लोकबन्धु अस्पताल ले गई, जहां उसकी सांसे थम गईं। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

प्रधानमंत्री जी पदोन्नति बिल पर चुप्पी तोड़ो विरोध सभा‘

लोक सभा में 117वां लम्बित पदोन्नति सम्बन्धी बिल को पास न कराकर लम्बे समय से प्रधानमंत्री की चुप्पी के खिलाफ शुक्रवार को आरक्षण समर्थकों का गुस्सा फूट पड़ा। आरक्षण समर्थक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लखनऊ आगमन पर ‘प्रधानमंत्री जी पदोन्नति बिल पर चुप्पी तोड़ो विरोध सभा‘‘ के तहत अम्बेडकर स्मारक गोमती नगर में सुबह 11 बजे से ही काली पट्टी ब‚धकर इकट्ठा हो गये और 03 बजे तक केन्द्र की मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।
आरक्षण समर्थकों ने बाबा साहब सामाजिक प्रतीक स्थल पर उनके मूर्ति के पास धरना देते हुये एक सभा की। इस दौरान आरक्षण बचाओं समिति के संयोजक अवधेश कुमार वर्मा ने करो मरो की तर्ज पर प्रधानमंत्री द्वारा पदोन्नति बिल पर चुप्पी न तोड़ने की दशा में सभी को भाजपा को हराने की कसम दिलायी। इस मौके पर आरक्षण समर्थकों ने ये भी कसम खाई कि वर्ष 2017 में सपा सरकार को रिवर्ट कर हिसाब बराबर करेंगे। इस मौके पर संघर्ष समिति के संयोजकों ने कहा कि जिस प्रकार से प्रधानमंत्री आरक्षण पर बड़ी-बड़ी बयानबाजी कर रहे हैं और डाॅ. अम्बेडकर को अपना सच्चा हितैषी बता रहे हैं और लगभग डेढ़ साल से लोक सभा में लम्बित पदोन्नति बिल पर चुप्पी साधे हुये हंै, वह दलित समाज के लिये बड़ा धोखा है, और उसी के चलते उत्तर प्रदेश सरकार दलितों के खिलाफ घोर अन्याय करने पर उतारू है। उन्होंने कहा कि डाॅ. अम्बेडकर को सही मायने में प्रधानमंत्री यदि सच्ची श्रद्धांजति अर्पित करना चाहते हैं तो वह तभी होगी जब उनके द्वारा दलितों को दिया गया संवैधानिक अधिकार पदोन्नतियों में आरक्षण बिल लोक सभा से अविलम्ब पास हो और दलितों पर पूरे देश में हो रहे अन्याय पर कठोर कानून बने तथा रोहित वेमुला के दोषी दोनों केन्द्रीय मन्त्रियों को मन्त्रिमण्डल से बर्खास्त कराया जाय।

ई-रिक्शा से लखनऊ के जीवन में बदलाव आयेगा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज यहां अपनी सरकार के कार्यों को विश्व में सराहे जाने की बात करते हुए कहा कि आज विश्व ने स्वीकार किया है कि दुनिया में भारत की अर्थव्यवस्था सबसे तेज गति से आगे बढ़ रही है। विश्व बैंक से लेकर दुनिया के अर्थशास्त्री इसे स्वीकार कर रहे हैं। लेकिन हमारा लक्ष्य दुनिया की तेज से गति बढने वाली इकोनामी बनना नहीं है। हमारा लक्ष्य गरीबी खत्म करना, नौजवानों को रोजगार देना और युवा पीढ़ी को अपने पैरों पर खड़े करना है। उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश है कि देश का नौजवान नौकरी तलाशने की बजाय अपना रोजगार शुरू करें और दूसरे को भी मदद दें।
मोदी शुक्रवार को लखनऊ में अपने कार्यक्रमों के क्रम में काल्विन ताल्लुकेदार्स काॅलेज में ई-रिक्शा वितरण कार्यक्रम के दौरान जनसभा को संबोधित कर रहे थे। मोदी ने कहा कि बीते 40 वर्षों में गरीबों के लिए बैंक के दरवाजे नहीं खुले लेकिन हमारी सरकार के कार्यकाल में बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया गया। उन्होेंने कहा कि प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत करीब 20 करोड़ नए खाते खोले गये। ऐसे में सारी दुनिया आश्चर्य में है। उन्होंने कहा कि हमारे देश के लोगों की अमीरी देखिए, इन लोगों ने खाते भी खुलवाये और तीन हजार करोड़ रुपए जमा किया। हमारी सरकार मुद्रा योजना लायी। देश के छोटे से छोटे लोगांे में अब तक करीब दो करोड़ लोगों को बैंक लोन दिया जा चुका है। उन्होंने कहा कि कई लोग किराये का रिक्शा चलाते थे। उनको रिक्शा दिया जा रहा है। वह इसके मालिक बनने जा रहे हैं।
मोदी ने कहा कि हमारा प्रयास है सामान्य से सामान्य व्यक्ति अपने पैरों पर खड़ा हो। लोगों को प्रधानमंत्री जीवन रक्षा योजना, जीवन ज्योति योजना, अटल पेंशन योजना का लाभ दिया जा रहा है। सुरक्षा कवच मिल रहा है। इनको प्रशिक्षित किया जा रहा है। ई-वीजा मिल रहा है। उन्होंने कहा कि देश में पयर्टन को बढ़ावा दिया जा रहा है। यही कारण है कि पहले की तुलना में अब पर्यटन उद्देश्य से ज्यादा लोग आने लगे हैं। मोदी ने कहा कि एनवायरमेन्ट को लेकर दुनिया परेशान है। पर्यावरण के संकट को दूर करने में ई-रिक्शा वाला भूमिका निभा रहा है। ई-रिक्शा से लखनऊ के जीवन में ज्यादा बदलाव आएगा।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार के कामकाज का ब्यौरा पेश करते हुए ई-रिक्शा पाने वालों को शुभकामनाएं दी। साथ ही मोदी ने रिक्शा चालकों के साथ चैपाल में मन की बात भी की।
मोदी का पुतला फूंका
दलित, पिछ़डे़, मुस्लिम और गरीबों के षोशण के विरोध सहित हिन्दु स्वाभिमान कैम्प, अखण्ड भारत मोर्चा पर नौजवानों, बच्चों को हथियारों की ट्रेनिंग देने का आरोप लगाकर राष्ट्रीय भागीदारी आन्दोलन के सदस्यों ने शुक्रवार को सिटी स्टेशन चैरहे पर प्रदर्शन किया। इस मामले मेेें मोदी की पर प्रदर्शनकारियों ने आपत्ति जताते हुए शुक्रवार को लखनऊ आगमन पर पीएम का पुतला फूंका।
संगठन के राश्ट्रीय संयोजक पीसी कुरील ने मोदी सरकार को दलित, पिछडे, मुस्लिम, तथा गरीबो की विरोधी बताते हुए रोश व्यक्त किया। कहा, दलित छात्र द्वारा आत्महत्या, पंजाब हरियाणा में दलित बच्चों को सोते समय जलये जाना, सहारनपुर में गऊमांस के षक में षहनवाज की हत्या आदि पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की खामोषी विकृत व्यवस्था से प्रेरित मानसिकता दर्षाती है।
समाजिक कार्यकर्ता मोहम्मद आफाक ने कहा कि सविंधान की षपथ लेने के बाद प्रधानमंत्री देष के प्रत्येक नागरिक के हितेा के लिए कार्य करने हेतु बाध्य होता है। आरएसएस का तृश्टिकरण एवं उसके लिए सर्मपण प्रधानमंत्री के पद की गरिमा को चोट पहुंचाता है।
जनहित संधर्श मोर्चा के अध्यक्ष हाजी मुहम्मद फहीम सिद्दीकी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने सबका साथ सबका विकास का नारा देकर भारत के नागरिकांे से वोट प्राप्त किये थे। उन्हे उसी नारे के अनुरूप ही कार्य करना चाहिए न कि दलित, पिछडे, मुस्लिम और गरीबों की उपेक्षा एवं उत्पीड़न करके उनके अधिकारों से वंचित किया जाये।
प्रदर्षन में मन्नू, उस्मान अली, अली मियां, अली हुसैन रिजवी आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Top
%d bloggers like this: